अमेरिकी सेना का धमाका, पाकिस्तान में घुसकर की सर्जिकल स्ट्राइक, पाक फ़ौज के उड़े होश

loading...

नई दिल्ली : भारत की सर्जिकल स्ट्राइक के बाद भी पाकिस्तान की अक्ल ठिकाने आयी नहीं है और उसने अपनी आतंकी गतिविधियां बरकरार रखी हैं. वहीँ अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प ने तो राष्ट्रपति चुनाव जीतने से पहले ही साफ़ कह दिया था कि वो किसी भी कीमत पर आतंक बर्दाश्त नहीं करेंगे. चुनाव जीतने के बाद शपथ लेते ही उन्होंने एक बार फिर अपने उसी फैसले को दोहराया भी था. इस बार पाकिस्तान में अमेरिका द्वारा सर्जिकल स्ट्राइक किये जाने की खबर सामने आयी है.

अमेरिकी ड्रोन ने पाकिस्तान में घुस कर की सर्जिकल स्ट्राइक
खूंखार आतंकी मुल्ला मंसूर को ड्रोन हमले में मारने के बाद अमेरिका ने पाकिस्तान में ड्रोन के जरिये सर्जिकल स्ट्राइक की है और कई पाक आतंकियों की लाशें बिछा दी हैं. इस हमले में कम से कम पांच आतंकी मारे गये हैं और कई अन्य घायल हुए हैं. ड्रोन अटैक आतंकी संगठन हक्कानी नेटवर्क के ठिकाने को निशाना बनाकर किया गया था.

सुरक्षा रिपोर्ट के अनुसार अमेरिकी सेना को खुफिया जानकारी मिली कि अफगान-पाक बॉर्डर पर हक्कानी नेटवर्क से जुड़े एक लोकल कमांडर के घर पर कई आतंकी छिपे हुए हैं. अफगानिस्तान में अमेरिकी फ़ौज पर हमला करके ये आतंकी पाकिस्तान भाग जाते हैं और पाकिस्तान सब कुछ जानते हुए भी कदम उठाता नहीं.

4 मिसाइलों से उड़ा दिया पूरा ठिकाना
खुफिया जानकारी के मिलते ही एक अमेरिकी ड्रोन अफगानिस्तान से उड़ कर आया और घर को निशाना बनाते हुए ड्रोन ने एक साथ 4 मिसाइलें दागीं. सुरक्षा अधिकारियों ने बताया कि जिस ठिकाने को निशाना बनाया गया वो पाकिस्तान में कुर्रम ट्राइबल बेल्ट में था.

वहीँ पूरी घटना के बाद पाक सरकार और पाक फ़ौज को सांप सूंघ गया है. पाकिस्तान सरकार की ओर से अभी तक कोई प्रतिक्रिया नहीं आयी है. अमेरिकी ड्रोन हमले के फ़ौरन बाद से पाकिस्तानी मीडिया में इसकी चर्चा शुरू हो गयी. पाकिस्तानी मीडिया ने इस ड्रोन हमले को “सस्पेक्टेड ड्रोन” हमला करार दिया है.

आपको बता दें कि 21 मई 2016 में भी अमेरिका ने ड्रोन हमला करके मुल्ला मंसूर नाम के एक आतंकी को मौत के घाट उतार दिया था, जिसके बाद पाकिस्तान सरकार की ओर से इसे अपनी संप्रभुता पर हमला बताया गया था और अमेरिका को जबाबी हमले की धमकी भी दे दी थी.

अमेरिका से डर गया पाकिस्तान?
हालांकि इस बार हुए हमले पर पाकिस्तान सरकार ने चुप्पी साधी हुई है. जानकारों के मुताबिक़ मई 2016 तक अमेरिका के राष्ट्रपति बराक ओबामा थे जो कि थोड़े नम्र स्वभाव के थे इसलिए पाकिस्तान की इतनी हिम्मत हो गयी थी कि उसने अमेरिका को जवाबी हमले की धमकी दे दी थी लेकिन अब अमेरिका में डोनाल्ड ट्रम्प राष्ट्रपति हैं जो अपने उग्र स्वभाव के लिए जाने जाते हैं. चुनाव से पहले भी वो पाकिस्तान को धमकी दे चुके हैं कि अगर पाकिस्तान ने आतंक को ख़त्म नहीं किया तो वो नतीजे भुगतने के लिए तैयार रहे. ऐसे में अब अमेरिका को धमकी दे कर पाकिस्तान अपनी शामत नहीं लाना चाहता.

loading...
SHARE